सेन्ट एम.पी.कृषक मोटर सायकल ऋण योजना

CentMP Kisan Vehicle Loan:

 

पात्रता
अ. भूमि जोत सीमा का ध्यान रखे बगैर सभी लघु, मध्यम एवं बडे कृषक जो कि उत्पादन आधारित कृषि गतिविधियों में संलग्न है, इस योजना में वित्तपोषण हेतु पात्र होंगें जहा तक संभव हो प्राथमिकता उन कृषकों को दी जावे जो कि पूर्व से ही बैंक से जुडे हुए हैं एवं जिनका अदायगी रिकार्ड संतोषप्रद है.
ब. सभी कृषक जो कि कृषि संबंद्ध गतिविधियों जैसे डेयरी,पोल्ट्री,फिषरी, बकरी पालन आदि में संलग्न हों, इस योजना में वित्तपोषण हेतु पात्र होंगें
मार्जिन
मोटर सायकल की लागत, जिसमें सहायक सामग्री एवं पंजीयन तथा बीमा लागत सम्मिलित है, का 25 प्रतिषत मार्जिन देय होगा.
ऋण की मात्रा
मोटर सायकल की लागत जिसमें सहायक सामग्री एवं पंजीयन / बीमा लागत सम्मिलित है, का 75 प्रतिषत या अधिकतम रू 40000/- जो भी कम हो ऋण दिया जावेगा.
अदायगी
संपूर्ण ऋण राषि मय ब्याज एवं अन्य व्ययों सहित अधिकतम 5 वर्ष में अदा हो जाना चाहिए. कृषक की फसल पद्धति को ध्यान में रखते हुए ऋण किष्तें छमाही / वार्षिक जैसा भी मामला हो,निर्धारित की जा सकती है.
प्रतिभूति
1. मोटर सायकल का दृष्टिबंधक
2. 2. सक्षम हैसियतधारी दो कृषक/व्यक्ति जिनकी आर्थिक हैसियत
ऋण राषि से पर्याप्त अधिक हो एव वे जमानतदार के रूप मे 
बैंक को स्वीकार्य हों, से जमानत अथवा भूमिबंधक रखना
भुगतान का तरीका
मोटर सायकल एवं एसेसरीज का भुगतान सीधे प्रदायकर्ता /विक्रेता को किया जाए तथा समस्त बिल्स/ रसीदों को बैंक अभिलेख में रखा जाए.

अन्य षर्ते
1. मोटर सायकल वाहन का पंजीयन क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी कार्यालय में करवाया जावे तथा पंजीयन प्रमाणपत्र में बैंक का दृष्टिबंधक प्रभार अभिलेखित कराया जावे एवं आरसी बुक की फोटोप्रति बैंक अभिलेख में रखें.
2. ऋण अवधि के दौरान मोटर सायकल का सघन ( काम्प्रीहेंसिव) बीमा कराया जावे तथा बीमा पालिसी में बैंक का समनुदेषन नोट कराया जावे एवं इसकी फोटोप्रति बैंक अभिलेख में रखें. 
3. कृषक को मोटर सायकल हेतु ऋण प्रदान करने के पूर्व यह सुनिष्चित किया जाए कि हितग्राहीं के पास वैद्य ड्रायविंग लाइसेंस है तथा उसकी एक प्रति बैंक अभिलेख में रखी जाए.
4. कृषक के पास उपलब्ध भू-अभिलेख जैसे खसरा पाॅंच साला, किष्तबंदी, ऋण पुस्तिका भाग 1,भूमिबंधक रखना हो तब वकील की सर्च रिपोर्ट आदि अभिलेख हेतु प्राप्त करें.
5. उपरोक्त नियम एवं षर्तो के अतिरिक्त यह सुनिष्चित किया जाए कि कृषक की कृषि एवं सहायक क्रियाकलापों से इतनी आय हो कि वह अपनी घरेलु आवष्यकताओं की पूर्ति करने के पष्चात् एवं अन्य कृषि ऋण की अदायगी करने के बाद आसानी से मोटर सायकल ऋण की किष्तों की अदायगी करने में सक्षम हो सके.
6. उक्त ऋण का प्राथमिकता क्षेत्र के अंतर्गत प्रत्यक्ष मध्यावधि कृषि ऋण के रूप में वर्गीकृत किया जाए.
7. उक्त ऋण हेतु कृषि ऋण के दस्तावेज लिये जावें.
8. यह ऋण केवल मोटर सायकल हेतु ही दिया जावेगा, मोपेड अथवा स्कूटर के लिये ऋण नहीं दिया जा सकेगा.


• Terms and conditions applicable 

• Please contact nearest branch for details

• ब्याज दर के लिए ब्याज दर लिंक क्लिक करें
• प्रक्रिया शुल्क के लिए सेवा प्रभार लिंक क्लिक कर